Category: night

होठों पर कोई बात नहीं आती।।

  बचपन के यादों की बरसात नहीं जाती,खेलती मचलती जीवन की शुरुआत नहीं जाती,माँ बाप के स्पर्श का अहसास नहीं जाती,पर जाने क्यूं, होठों पर कोई बात नहीं आती।। दोस्तों…

A incidential poetic/shayari story of a men in a cold night. He saw a girl and lost his heart. Story of a mother and child.

कविता- प्यार – एक अनकही कहानी   सर्द दिसम्बर की रात थी,शायद दो साल पुरानी बात थी। मैं चल पड़ा था अपनी डगर,पर न थी मुझे कुछ ख़बर।होने वाला क्या…

error: Content is protected !!